Search for mobile numbers of electricity bill defaulters

दीपावली से पहले बिजली कंपनी उपभोक्ताओं के बैंक खातों को भी सीज.

होशंगाबाद. दीपावली से पहले बिजली कंपनी उपभोक्ताओं से बकाया बिजली बिल वसूलने के लिए सभी संभव प्रयास करने की कोशिश कर रही है, बिजली कंपनी को उपभोक्ताओं के साथ ही कई सरकारी विभागों से भी करोड़ों रुपए की वसूली करनी है, जिसके तहत अब बिजली विभाग नया फंडा शुरू करने जा रही है, अब बकाया बिजली बिल वालों के बैंक खातों को भी सीज करने की कार्रवाई की जाएगी। ऐसे में निश्चित ही हर उपभोक्ता को किसी भी कीमत पर बिजली का बिल चुकता करना ही पड़ेगा।

करोड़ों रुपए की वसूली बाकी
होशंगाबाद सर्कल में होशंगाबाद शहर, ग्रामीण, डोलरिया, सिवनी मालवा और शिवपुर मिलाकर करीब 1.13 लाख उपभोक्ताओं पर करीब 61 करोड़ रुपए से अधिक बकाया है, वहीं सरकारी विभागों पर भी करीब 8 करोड़ 91 लाख रुपए से अधिक बकाया है।

बकाया वसूलने अब बैंकों में दर्ज मोबाइल नंबरों की तलाश

बिजली कंपनी अब उपभोक्ताओं से बकाया बिजली बिल वसूलने के लिए उपभोक्ताओं के बैंक खाते में दर्ज मोबाइल नंबरों की तलाश कर रही है, ताकि बकायादारों के बैंक खातों को सीज किया जा सके, हालांकि यह व्यवस्था केवल आम उपभोक्ताओं के साथ ही होगी, सरकारी विभागों से वसूली के लिए बिजली कंपनी के पास कोई प्लान नहीं है।

दीपावली से पहले दबाव

दीपावली से पहले बकाया बिलों को वसूलने का दबाव बना हुआ है, जिससे सभी बिजली कर्मचारियों को अवकाश के बाद भी सख्ती से वसूली के निर्देश दिए हुए हैं। ऐसे मे बड़े बकायादारों पर कपंनी के कर्मचारी परेशानी होने पर भी कम से कम 50 प्रतिशत से अधिक की राशि जमा करवाने का दबाव बना रहे हैं।

इन विभागों पर लाखों बकाया

नगरीय प्रशासन पर करीब 6 करोड़ 66 लाख, पंचायत विभाग पर करीब 46 लाख पुलिस विभाग पर 18 लाख, स्वास्थ्य विभाग पर 3 लाख 82 हजार, मप्र सरकार के अन्य विभागों पर करीब 1 करोड़ 38 लाख, केंद्र सरकार के विभागों पर 17 लाख व बीएसएनएल पर करीब 15 लाख रुपए बकाया हैं।

डिफॉल्टरों के खाते सीज करने की तैयारी

हमारे सर्कल में कई उपभोक्ताओं का बकाया है, हम उपभोक्ताओं के उनके बैंक अकाउंट से अटैच नंबर को खोजकर डिफाल्टर बकायादारों के खाते सीज करने की कार्रवाई शुरू करने वाले हैं, ऐसे फोन नंंबरों की सूची तैयार हो रही है, इधर विभाग से लगातार सम्पर्क में हैं।

-अंकुर मिश्रा, डीई, सर्कल होशंगाबाद