nautical science course: Nautical Science: क्या है नॉटिकल साइंस? कई सारे करियर स्कोप, जानें जरूरी स्किल्स – career jobs and courses in nautical science after 12th

हाइलाइट्स

  • बीएससी नॉटिकल साइंस कोर्स के बाद मिलेगी अच्छी नौकरी
  • जानें इस फील्ड में कितने हैं करियर ऑप्शन
  • यहां है नॉटिकल साइंस कोर्स के बेस्ट कॉलेज की लिस्ट

How To Become A Nautical Scientist: अगर आपको समुद्र की गहराईयां पसंद है और आप इस क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं। तो आप बीएससी नॉटिकल साइंस का कोर्स कर सकते हैं, जो डायरेक्टोरेट ऑफ जनरल शिपिंग द्वारा मान्यता प्राप्त है और मिनिस्ट्री ऑफ शिपिंग गवर्नमेंट ऑफ इंडिया के अंतर्गत आता है। नॉटिकल साइंस समुद्री जहाज के संचालन और सुरक्षित रूप से नौपरिवहन करने की जानकारी देने वाला विषय है। नॉटिकल साइंस का संबंध यात्रा के दौरान जहाज के जलमार्ग, नॉटिकल चार्ट्स के अध्ययन, ब्रिज से शिप के नियंत्रण, नौकायन, बर्थिंग, डॉकिंग, डॉक संबंधी सभी गतिविधियों के साथ शिप कार्गो की लोडिंग और अनलोडिंग से होता है।

जानें कोर्स के बारे में (Nautical Science Course)
इस कोर्स के लिए आवश्यक योग्यता 12वीं पीसीएम है। इस कोर्स में एडमिशन के लिए कैंडिडेट को 12वीं में फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथ्स और इंग्लिश के साथ कम से कम 55 से 60 प्रतिशत अंक होने चाहिए। इसमें एडमिशन प्रवेश परीक्षा के द्वारा ही मिलता है। हालांकि कुछ कॉलेज में डायरेक्ट ही एडमिशन मिल जाता है। लेकिन किसी भी कॉलेज में प्रवेश लेने से पहले अच्छी तरह से जांच पड़ताल जरूर कर लें।
इसे भी पढ़ें: Career After 12th: क्वॉलिटी एनालिस्ट प्रोफेशन में मिलती है हाई सैलरी, जानें कोर्स और करियर के बारे में

कैसी हों स्किल्स (Skills For Nautical Science)
एक बेहतरीन नॉटिकल साइंटिस्‍ट‍ बनने के लिए सबसे पहले तो इस फील्ड में और समुद्री जीवन में रुचि होना जरूरी है। इसके अलावा आपकी एनालिटिक्‍स क्षमता अच्छी होनी चाहिए और आपमें प्रॉब्लम सॉल्व करने की क्षमता होनी चाहिए। आपकी ऑब्जर्वेशन स्किल्स भी अच्छी होनी चाहिए ताकि आपकी रिसर्च से अच्छे इनपुट्स आ सकें।

करियर की संभावना (Nautical Science Career Options)
अगर आप इस क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं, तो यह बेहतरीन समय है। बीएससी नॉटिकल कोर्स के बाद आप मरीन इंजीनियरिंग में जॉब कर सकते हैं। जिस तरह से विदेशों से हमारे देश का समुद्री व्यापार बढ़ रहा है। इसी के अनुसार यंहा पर मरीन इंजीनियर या अन्य बीएससी नॉटिकल साइंस में एक्सपर्ट की डिमांड बढ़ रही है। वहीं मर्चेन्ट नेवी और इंडियन नेवी में बीएससी नॉटिकल करने वालों की बहुत मांग है। इस कोर्स को कंपलीट करने के बाद आप नेवी में मरीन इंजीनियर, रेडियो ऑफिसर, ओसानोग्राफर, नॉटिकल सर्वेयर के तौर पर जॉब कर सकते हैं। इसके साथ ही कैप्टन, डेक कैडेट, चीफ अफसर, सेकंड ऑफि‍सर आदि के तौर पर काम करने का मौका मिल सकता है। इस सेक्टर में प्राइवेट और गवर्नमेंट दोनों क्षेत्रों में बेहतरीन जॉब के अवसर हैं। प्राइवेट सेक्टर में आप मर्चेन्ट नेवी, जहाज निर्माण कंपनी, जहाज निरीक्षण कंपनी और सोसायटी में जॉब की तलाश कर सकते हैं।
इसे भी पढ़ें: NET Preparation: लास्ट टाइम में कैसे करें नेट की तैयारी? ये हैं स्मार्ट रिवीजन टिप्स

सैलरी
आपको इस क्षेत्र में अच्‍छी सैलरी मिल सकती है। वहीं अगर आप देश के अलावा विदेश में जॉब करते हैं, तो आप सालाना लाखों डॉलर का पैकेज ले सकते हैं। आजकल तो इंडिया में भी इस सेक्टर में भारी पैकेज पर नॉटिकल साइंटिस्‍ट एक्सपर्ट हायर किये जा रहे हैं। आमतौर पर इंडिया में इस सेक्टर में शुरूआती सैलेरी 40 से 50 हजार रूपये के आस पास होती है। थोड़ा अनुभव होने के बाद लाखो रुपये प्रतिमाह सैलेरी मिल सकती है।

यहां से कर सकते हैं कोर्स(Nautical Science Institutes)

  1. इंडियन मैरीटाइम यूनिवर्सिटी, मुम्बई (Indian Maritime University, Mumbai)
  2. इंडियन मैरीटाइम यूनिवर्सिटी, चेन्नई (Indian Maritime University, Chennai)
  3. इंटरनेशनल मैरीटाइम इंस्टीट्यूट, नोएडा (International Maritime Institute, Noida)
  4. एकेडमी ऑफ मैरीटाइम एजुकेशन एंड ट्रेनिंग, चेन्नई (Academy of Maritime Education and Training, Chennai)
  5. मंगलौर मरीन कॉलेज एंड टेक्नोलॉजी (Mangalore Marine College and Technology)
  6. हिंदुस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ मैरीटाइम ट्रेनिंग, चेन्नई (Hindustan Institute of Maritime Training, Chennai)
  7. वेल्स एकेडमी ऑफ मरीन स्टडीज, चेन्नई (Wells Academy of Marine Studies, Chennai)