KS Bharat: IPL 2021 RCB Wicket Keeper Batsman Kona Srikar Bharat Cricket Journey | All You Need To Know ‍ | RCB के भरत पड़ोसियों के कांच फोड़ा करते थे, तंग आकर पिता ने कहा- पढ़ाई या क्रिकेट में से कोई एक चीज चुन लो

  • Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • Ipl
  • KS Bharat: IPL 2021 RCB Wicket Keeper Batsman Kona Srikar Bharat Cricket Journey | All You Need To Know ‍

एक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

IPL फेज टू में लगातार नए चेहरे अपनी काबिलियत का लोहा मनवा रहे हैं। रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु (RCB) और राजस्थान रॉयल्स (RR) के बुधवार को खेले गए मैच में बेंगलुरु को जीत मिली। इसमें अहम भूमिका निभाई यंग विकेटकीपर बैट्समैन केएस भरत ने। उन्होंने 35 गेंदों पर 44 रन की पारी खेली। पढ़िए भरत की क्रिकेट स्टोरी…

पिता चाहते थे एनर्जी का सही इस्तेमाल हो
आंध्र प्रदेश के विशाखपट्नम के रहने वाले केएस भरत को क्रिकेट पसंद था। RCB को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा- गली क्रिकेट के दौरान मैं अपने दोस्तों के साथ मिलकर पड़ोसियों के कांच फोड़ा करता था। पिता के पास लगातार शिकायत आने लगी तो उन्होंने तंग आकर एडमिशन क्रिकेट एकेडमी में करवा दिया। पिता चाहते थे कि एनर्जी का सही उपयोग हो।

भरत ने बताया ‘मैं क्रिकेट केवल मस्ती और स्कूल जाने से बचने के लिए खेलता था। क्रिकेट की ट्रेनिंग या मैच सुबह 9 बजे से 4 बजे तक होती थी, ऐसे में उस समय तक स्कूल बंद हो जाता था। मुझे लगता था कि क्रिकेट के माध्यम से अपने को प्रजेंट कर सकता हूं। हालांकि मैं पढ़ाई में भी अच्छा था।’

16 साल की उम्र में स्टेट टीम में चुने गए
विकेटकीपर बैट्समैन ने कहा कि 16 साल की उम्र में स्टेट की टीम में सिलेक्शन हुआ। उसके बाद मेरे पिता ने मेरे कोच से पूछा कि मैं क्या कर सकता हूं। मेरे कोच को लगता था कि क्रिकेट में मेरा भविष्य उज्जवल है। उसके बाद मेरे पिता ने मुझे कहा कि क्रिकेट और पढ़ाई में से किसी एक को चुन कर उस पर फोकस करना चाहिए। चूंकि मैं पढ़ाई में भी काफी अच्छा था, इसलिए मैं उधर भी जा सकता था। पर मैंने क्रिकेट को चुना।

कोच कृष्णा राव ने कीपिंग के दिए सुझाव
उन्होंने कहा कि मैं अंडर-16 में बतौर बल्लेबाज ही टीम में खेला। पर मैं स्लिप में फील्डिंग करता था। मैं छलांग लगता था और काफी फुर्तीला था, इसके बाद मेरे कोच कृष्णा राव ने मुझे कीपिंग करने का सुझाव दिया। 17 साल की उम्र में मैं पहली बार कीपिंग ग्लव्स पहने थे। अंडर-19 स्टेट टीम में मेरा चयन बतौर विकेटकीपर बल्लेबाज के तौर पर हुआ।

टीम इंडिया के खिलाड़ियों ने मेरा मनोबल बढ़ाया
भरत ने बताया कि 2004 में जब आंध्र प्रदेश में मैच था, तो उस समय मुझे भारतीय टीम के खिलाड़ियों के साथ समय बिताने का मौका मिला। पहली बार मुझे भारतीय टीम के लीजेंड खिलाड़ियों को पास से देखने का मौका मिला, उस समय टीम में सचिन पाजी, वीरेंद्र सहवाग, एमएस धोनी और सौरव गांगुली भी थे। उन्होंने मुझे प्रोत्साहित किया। इंडिया ए खेलने के दौरान मुझे काफी कुछ सीखने का मौका मिला। मुझे उस समय पता चला कि मेरे अंदर स्ट्रेंथ क्या है, मेरे अंदर क्या पॉजिटिव है और क्या निगेटिव है। मुझे किन पर फोकस करने की जरूरत है।

माही और गिलक्रिस्ट आदर्श हैं
मेरे आदर्श एडम गिलक्रिस्ट और महेंद्र सिंह धोनी हैं। मैं उन दोनों के मैच का वीडियो देखता हूं कि वह किस तरह से कीपिंग करते हैं और उनका रिएक्शन किस तरह का होता है। वहीं मुझे विराट कोहली के शॉट भी काफी पसंद हैं। मैं कोशिश करता हूं कि उनकी तरह शॉट खेलूं।

2016 से IPLटीमों के साथ, पर इस सीजन में मिला है मौका
केएस भरत 2016 में दिल्ली कैपिटल्स के साथ जुड़े थे। पर उन्हें मौका नहीं मिल पाया। दिल्ली कैपिटल्स ने 2021 में उन्हें रिलीज कर दिया। उसके बाद रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू ने इस साल अपने साथ जोड़ा। अब तक खेले चार मैचों में 30.66 की औसत से 92 रन बनाए हैं।

रणजी में तिहरा शतक लगाने वाले इकलौते बल्लेबाज
भरत इंडिया के पहले ऐसे विकेटकीपर बल्लेबाज हैं, जिन्होंने रणजी क्रिकेट में तिहरा शतक लगाया हो। 2015 में भरत ने अपनी पारी में 311 गेंदों का सामना करते हुए 308 रन बनाए थे और अपनी पारी में 38 चौके व 6 छक्के लगाए थे। भरत ने 78 फर्स्ट क्लास मैचों में 37.24 की औसत से 4283 रन बनाए हैं। उन्होंने अपनी पारी में 9 शतक और 23 अर्ध शतक लगाए हैं।

उन्होंने 51 लिस्ट ए मैच और 52 टी20 मैच भी खेले हैं। वहीं घरेलू क्रिकेट में उन्होंने विकेट के पीछे 414 शिकार बनाए हैं। केएस भरत 2020 जनवरी में ऑस्ट्रेलिया के साथ वनडे मैचों की सीरीज में टीम इंडिया में शामिल थे, पर उन्हें मौका नहीं मिला।

खबरें और भी हैं…