Invesco rewrites letter to Zee Entertainment reiterates demand for punit goenka removal pmgkp

मुंबई . इनवेस्को डेवलपिंग मार्केट्स फंड (Invesco Developing Markets Fund) और ओएफआई ग्लोबल चाइना फंड एलएलसी ( OFI Global China Fund Llc) ने Zee Entertainment के एमडी पुनित गोयनका को हटाने की अपनी मांग फिर दोहराई है. ये दोनों फंड हाउस जी के सबसे बड़े शेयर होल्डर हैं. इन दोनों ने फिर से जी बोर्ड को पत्र लिखकर general meeting (EGM) बुलाने की मांग की है.

13 सितंबर को Zee Entertainment में 17.88% stake रखने वाले इन दोनों institutional investors ने दो इंडिपेंडेंट इंवेस्टर्स को हटाने की मांग की थी. जी बोर्ड को 23 सितंबर को लिखे अपने दूसरे पत्र में इनवेस्को ने सोनी के साथ मर्जर का हवाला देते हुए ईजीएम फिर से बुलाने की मांग की है.

यह भी पढ़ें- बैंकों में कैसे बदलते हैं कटे-फटे नोट, कितने रुपये वापस मिलते हैं, जानिए डिटेल

हाल ही में एंटरटेनमेंट सेक्टर में एक बड़ी मर्जर डील की खबर सामने आई थी. जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड (Zee Entertainment) ने सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया (Sony Pictures India) के साथ मर्जर की घोषणा की.

क्या है पूरा मामला?
दरअसल किसी भी मर्जर में प्रमोटर्स की हिस्सेदारी अहम भूमिका निभाती है. जी एंटरटेनमेंट में ये दोनों इंवेस्चर 18 फीसदी हिस्सेदारी रखते हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक दूसरी बड़ी प्रमोटर इन्वेस्को कानूनी लड़ाई लड़ने की भी तैयारी कर ही है. इन्वेस्को का मानना था कि कंपनी का कॉर्पोरेट गवर्नेंस कमजोर है. इन्वेस्को ने ही जी एंटरटेनमेंट में दो स्वतंत्र निदेशकों और मैनेजिंग डायरेक्टर (MD) पुनीत गोयनका को हटाने की मांग की थी. दो स्वतंत्र निदेशकों ने इस्तीफा तो दे दिया, लेकिन पुनीत गोयनका ने पद नहीं छोड़ा. अब इस मामले के आगे बढ़ने से पहले ही मर्जर का एलान कर दिया गया.

11,500 करोड़ रुपये का होगा निवेश
कंपनी ने एक एक्सचेंज फाइलिंग में जानकारी दी कि सोनी 1.57 अरब डॉलर यानी करीब 11,500 करोड़ रुपये का निवेश करेगी और विलय के बाद इसके पास 52.93 फीसदी की नियंत्रक हिस्सेदारी होगी. वहीं जी लिमिटेड के शेयरधारकों के पास 47.07 फीसदी हिस्सेदारी होगी. निवेश की रकम का इस्तेमाल ग्रोथ के लिए किया जाएगा.

पुनीत गोयनका होंगे मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ
जी लिमिटेड के बोर्ड ने विलय के लिए मंजूरी दे दी है. पुनीत गोयनका मर्जर के बाद बनने वाली कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) बने रहेंगे. दोनों कंपनियों के टीवी कारोबार, डिजिटल एसेट्स, प्रोडक्शन ऑपरेशंस और प्रोग्राम लाइब्रेरी को मर्ज किया जाएगा. दोनों कंपनियों के बीच नॉन-बाइंडिंग अग्रीमेंट का करार हुआ है. डील का ड्यू डिलिजेंस अगले 90 दिनों में पूरा होगा. मौजूदा प्रमोटर फैमिली जी के पास अपनी हिस्सेदारी को चार फीसदी से बढ़ाकर 20 फीसदी तक करने की पूरी स्वतंत्रता होगी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.