Iit Bhu Alumni Ramesh Shrinivasan Student Gave Money To Promote Sports – आईआईटी बीएचयू को मिला सबसे बड़ा उपहार: पुरातन छात्र ने दिया 9.65 करोड़ का अनुदान, खेलों को बढ़ावा देने के लिए दी धनराशि

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, वाराणसी
Published by: गीतार्जुन गौतम
Updated Thu, 30 Sep 2021 09:19 PM IST

आईआईटी बीएचयू के पुरातन छात्र रमेश श्रीनिवासन।
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

आईआईटी बीएचयू के पुरातन छात्र ने संस्थान में खेलों को बढ़ावा देने के लिए 1.3 मिलियन यानि 9.65 करोड़ रुपये का अनुदान दिया है। इससे संस्थान में खेलकूद को बढ़ावा देने के लिए एक छात्र गतिविधि केंद्र की स्थापना कराई जाएगी।

आईआईटी बीएचयू के पूर्व छात्रों का एक अमेरिकी गैर-लाभकारी संघ आईआईटी बीएचयू फाउंडेशन ने संस्थान के मदद के लिए अभियान शुरू किया है। फाउंडेशन के अध्यक्ष मेटलर्जी विभाग में 1982 के छात्र रहे रमेश श्रीनिवासन की ओर से दिया गया अनुदान अब तक का सबसे बड़ा उपहार है।

श्रीनिवासन ने बताया कि संस्थान ने जो कुछ भी हमारे भविष्य के लिए किया है, उसे वापस देने का यह बेहतर अवसर है। आईआईटी के निदेशक प्रो. प्रमोद कुमार जैन ने बताया कि कार्यकुशल छात्र आईआईटी बीएचयू की पहचान हैं। मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग के 1997 में छात्र रहे अरुण त्रिपाठी ने इस पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि छात्र गतिविधि केंद्र का नाम रमेश श्रीनिवासन छात्र गतिविधि केंद्र कर उन्हें सम्मानित करने का फैसला किया है।

आईआईटी बीएचयू के पुरातन छात्र ने संस्थान में खेलों को बढ़ावा देने के लिए 1.3 मिलियन यानि 9.65 करोड़ रुपये का अनुदान दिया है। इससे संस्थान में खेलकूद को बढ़ावा देने के लिए एक छात्र गतिविधि केंद्र की स्थापना कराई जाएगी।

आईआईटी बीएचयू के पूर्व छात्रों का एक अमेरिकी गैर-लाभकारी संघ आईआईटी बीएचयू फाउंडेशन ने संस्थान के मदद के लिए अभियान शुरू किया है। फाउंडेशन के अध्यक्ष मेटलर्जी विभाग में 1982 के छात्र रहे रमेश श्रीनिवासन की ओर से दिया गया अनुदान अब तक का सबसे बड़ा उपहार है।

श्रीनिवासन ने बताया कि संस्थान ने जो कुछ भी हमारे भविष्य के लिए किया है, उसे वापस देने का यह बेहतर अवसर है। आईआईटी के निदेशक प्रो. प्रमोद कुमार जैन ने बताया कि कार्यकुशल छात्र आईआईटी बीएचयू की पहचान हैं। मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग के 1997 में छात्र रहे अरुण त्रिपाठी ने इस पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि छात्र गतिविधि केंद्र का नाम रमेश श्रीनिवासन छात्र गतिविधि केंद्र कर उन्हें सम्मानित करने का फैसला किया है।