festive season sales: Car Sales Festive Season: त्योहारी सीजन में कार की बिक्री पर चिप की कमी का असर देखा जा सकता है

हाइलाइट्स

  • चिप की किल्लत की वजह से कार उद्योग के कारोबार पर काफी असर पड़ा है।
  • ग्राहकों को नई कार खरीदने में लंबा इंतजार करना पड़ सकता है।
  • सितंबर महीने में मारुति सुजुकी इंडिया ने कारों का उत्पादन 60 फ़ीसदी तक घटाया था।

नई दिल्ली
semiconductors shortage: दुनिया भर में इन दिनों चिप की किल्लत का सामना करना पड़ रहा है और इस वजह से कार उद्योग के कारोबार पर काफी असर पड़ा है। सेमीकंडक्टर की विश्वव्यापी किल्लत की वजह से इलेक्ट्रॉनिक्स के सप्लाई पर असर पड़ा है। इस वजह से कार बनाने वाली कंपनियों को काफी मुसीबत का सामना करना पड़ रहा है।

भारत में त्योहारी सीजन शुरू होने वाला है और सेमीकंडक्टर की किल्लत की वजह से सिर्फ भारत में ही नहीं दुनिया भर में कार बनाने वाली कंपनियां परेशानी महसूस कर रही हैं। पिछले करीब 1 साल से उद्योग जगत सेमीकंडक्टर की कमी का सामना कर रहा है और पिछले कुछ महीने में स्थितियां और बिगड़ी हैं।

यह भी पढ़ें: Diesel, CNG, PNG, LPG Hike: महंगाई डायन का चौतरफा वार, घटती आमदनी के दौर में कैसे चलेगा घर

नवरात्र में कार खरीदारी
भारत में नवरात्र का सीजन शुरू होने वाला है। इस मौके पर बहुत से लोग कार खरीदारी को शुभ मानकर कंपनियों के पास बुकिंग कराते हैं और नवरात्र में डिलीवरी लेते हैं। अगर बार मारुति सुजुकी, हुंडई, महिंद्रा और होंडा जैसी शीर्ष कार कंपनियों की करें तो होलसेल डिलीवरी के आंकड़े यह बताते हैं कि ग्राहकों को नई कार खरीदने में लंबा इंतजार करना पड़ सकता है।

कार प्रोडक्शन घटा
देश की सबसे बड़ी कार बनाने वाली कंपनी मारुति सुजुकी ने कहा है कि इसके अक्टूबर में फैक्ट्री आउटपुट में 40 फ़ीसदी की कमी आ सकती है। सितंबर महीने में मारुति सुजुकी इंडिया ने कारों का उत्पादन 60 फ़ीसदी तक घटाया था। कार बनाने वाली देश की सबसे बड़ी कंपनी ने शेयर बाजार को गुरुवार को दी गई एक जानकारी में कहा कि चिप जैसी इलेक्ट्रॉनिक कंपोनेंट की सप्लाई में आ रही दिक्कत की वजह से कंपनी के कार उत्पादन पर अक्टूबर में असर पड़ने की आशंका है। कंपनी ने कहा कि सितंबर में कंपनी ने पैसेंजर व्हीकल के मामले में 63111 यूनिट का उत्पादन किया जबकि पिछले साल के सितंबर महीने में कंपनी ने 1.5 लाख कार बनाई थी। कंपनी ने कहा है कि वह शॉर्टेज की समस्या से निपटने के लिए हर संभव कोशिश कर रही है लेकिन उसे इसमें सफलता नहीं मिल रही है।

हुंडई ने घटाया उत्पादन
देश की दूसरी सबसे बड़ी कार निर्माता हुंडई ने होलसेल डिलीवरी में 34 फ़ीसदी की कटौती की है। कंपनी भी चिप की समस्या का सामना कर रही है। हुंडई ने एक बयान में कहा, “दुनिया भर में चिप सप्लाई संबंधित दिक्कत की वजह से व्हीकल के उत्पादन पर असर पड़ा है। इससे डिस्पैच घटा है। दुनिया भर की कार कंपनियां इलेक्ट्रॉनिक सप्लाई सुधारने की कोशिश कर रही हैं, लेकिन सेमीकंडक्टर बनाने वाले भी कई तरह की समस्या का सामना कर रहे हैं, इस वजह से इसमें सफलता नहीं मिल रही है।

कोरोना संकट के बाद बढ़ी समस्या
लैपटॉप और स्मार्टफोन की बिक्री बढ़ रही है और सेमीकंडक्टर बनाने वाली कंपनियां उन्हें अधिक सप्लाई दे रही हैं। दुनिया भर में कोरोना संक्रमण की तीव्रता घटने के बाद स्मार्टफोन और लैपटॉप की डिमांड बढ़ी है जिस वजह से सेमीकंडक्टर और चिप की डिमांड भी तेज हो रही है।

यह भी पढ़ें: Gautam Adani Asssets: एक साल से रोजाना 1002 करोड़ की कमाई, अब मुकेश अंबानी से महज दो लाख करोड़ रुपये पीछे हैं गौतम अडानी

FD पर 1% तक एक्स्ट्रा ब्याज, इन बैंकों में अब मार्च 2022 तक ले सकेंगे फायदा