delhi murder crime news: दोस्त के घर पार्टी में शराब पीकर हुआ झगड़ा, घर से बाहर लेकर जाकर कर दिया पार्टी देने वाले दोस्त का मर्डर – boy killed by friends over fight during party

विशेष संवाददाता, नई दिल्ली
आशीष उर्फ रोहन (20) के घर पार्टी चल रही थी। नशे में गाली-गलौज होने लगी तो आशीष बाकी तीन दोस्तों पर भारी पड़ा। तीनों बहाने से बाहर ले गए, जहां उसकी खूब पिटाई की। बेहोश होने पर एक खाली मैदान पर ले गए, जहां पत्थर से सिर कुचल दिया। ज्योति नगर थाना पुलिस को बॉडी सड़ी-गली हालत में पांच दिन बाद मिली। मर्डर के आरोपी अशोक नगर के ऋषभ उर्फ गोलू (19) और एलआईजी फ्लैट्स के रितिक आनंद (19) को अरेस्ट कर लिया गया। मुख्य आरोपी अशोक नगर का कार्तिक (19) फरार है।

नोएडा: जस्ट डायल में डूबा पैसा तो B.Tec स्टूडेंट करने लगा डकैती, यूं बनाई थी कार लूटने वाली गैंग

जिले के आला पुलिस अफसरों ने बताया कि 25 सितंबर दोपहर को ईस्ट लोनी रोड एलआईजी फ्लैट्स के सामने कैलाश कॉलोनी के खाली मैदान पर बॉडी सड़ी-गली हालत में मिली। परिजनों ने बताया कि 20 सितंबर को आशीष उर्फ रोहन घर से अपने दोस्तों के साथ निकला था। घर नहीं लौटा तो ज्योति नगर थाने में 24 सितंबर को गुमशुदगी लिखी गई थी। जिले के एंटी ऑटो थेफ्ट स्क्वॉड (AATS) के इंचार्ज एसआई अखिल चौधरी, एचसी राजदीप, विपिन, सिपाही पवित, नितिन, दीपक और संचित की टीम बनाई गई।

जमानत पर बाहर आकर 6 महीने में कर दी स्नैचिंग की 52 वारदात, खेत में 1.5 किलोमीटर दौड़ाकर पकड़ा
आसपास के सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली गई। एक में तीन आरोपी मृतक को बुरी तरह पीटते दिख गए। इनकी पहचान ऋषभ, रितिक और कार्तिक के तौर पर हुई। टेक्निकल सर्विलांस के जरिए रितिक और ऋषभ को पकड़ लिया लिया गया, लेकिन कार्तिक हत्थे नहीं चढ़ा। पूछताछ में खुलासा हुआ कि आशीष की बहन कुछ साल पहले कार्तिक के मकान में किराए पर रहती थी। कार्तिक की मां और आशीष की बहन में विवाद हो गया था। इसी मामले में आशीष ने कार्तिक की मां को थप्पड़ मार दिया था। यह टीस कार्तिक के मन में थी।

इंजन और चेसिस नंबर को बदलकर बेच देते थे चोरी की लग्जरी गाड़ियां, 5 लोग अरेस्ट
आरोपियों ने बताया कि वारदात वाले दिन भी आशीष ने अपने घर में शराब पार्टी के दौरान ऋषभ और कार्तिक से गाली-गलौज की। इससे आहत होकर तीनों ने उसे ठिकाने लगाने का फैसला कर लिया और 20 सितंबर देर रात करीब 1ः00 बजे बहाने से बाहर ले गए। आरोपियों का दावा है कि आशीष ने कहने लगा कि अगर वह आज जिंदा बच गया तो तीनों को छोड़ेगा। ऐसे में तीनों ने उसकी हत्या करने का फैसला कर लिया। तीनों ने वारदात को अंजाम दिया और फरार हो गए।