Crime,froud,cheking,jammu News – अठारह घंटे तक जेके पीएफ का रिकॉर्ड खंगालती रही सीबीआई

ख़बर सुनें

जम्मू। जम्मू-कश्मीर कर्मचारी भविष्य निधि संगठन में हुए करोड़ों रुपये के घोटाला मामले में जब्त रिकॉर्ड की स्क्रूटनी शुरू कर दी गई है। सीबीआई की टीम ने संगठन के कार्यालय में सोमवार सुबह 10 बजे छापा मारा था। यह छापेमारी मंगलवार तड़के चार बजे तक जारी रही। सीबीआई की टीम ने लगातार 18 घंटे तक संगठन का रिकॉर्ड खंगाला है, जो एक बड़ी बात है।
सीबीआई की टीम ने संगठन से सैकड़ों लोगों का रिकॉर्ड बोरों में भरकर जब्त कर लिया है। सूत्रों का कहना है कि बड़े स्तर पर फर्जी पीएफ अकाउंट बनाकर पैसा निकाला गया। इसकी वजह से काफी देर तक सीबीआई को रिकार्ड खंगालने में लग गया।
दरअसल, पीएफ अफसरों और कर्मियों की मिलीभगत से बहुत से लोगों का डाटा ही कंप्यूटर से डिलीट कर दिया गया है। इस वजह से सीबीआई को इस डाटा की जानकारी लेने में वक्त लगा। जबकि ऐसे भी कई लोगों की मैनुअल जानकारी लेने में भी वक्त लगा है।
—-
रिकॉर्ड जब्त कर शुरू की गई स्क्रूटनी,
जब्त किए गए रिकॉर्ड की स्क्रूटनी शुरू कर दी गई है। संभव है कि इस मामले में सीबीआई जल्द ही केस दर्ज करेगी और आगे की छानबीन करेगी। इस मामले में सीबीआई ईपीएफओ के अफसरों के ठिकानों पर भी छापेमारी कर सकती है। बता दें कि सोमवार को सीबीआई की 15 सदस्यीय टीम ने रेलवे स्टेशन जम्मू स्थित ईपीएफओ कार्यालय में छापा मारा था। सीबीआई के पास शिकायत आई थी कि ऐसे कई मजदूर हैं, जिनके खातों को डिलीट करके उनके नाम के फर्जी अकाउंट बनाकर पैसा निकाल लिया गया। इसके बाद सीबीआई की टीम इंजीनियर विंग के साथ कार्यालय पहुंची और छापा मारकर रिकार्ड खंगाला। शुरूआती जांच में यही सामने आया है कि बड़े स्तर पर घोटाला हुआ है। जांच के बाद सीबीआई की ओर से इसकी जानकारी दी जाएगी कि कितने करोड़ का घोटाला हुआ है।

जम्मू। जम्मू-कश्मीर कर्मचारी भविष्य निधि संगठन में हुए करोड़ों रुपये के घोटाला मामले में जब्त रिकॉर्ड की स्क्रूटनी शुरू कर दी गई है। सीबीआई की टीम ने संगठन के कार्यालय में सोमवार सुबह 10 बजे छापा मारा था। यह छापेमारी मंगलवार तड़के चार बजे तक जारी रही। सीबीआई की टीम ने लगातार 18 घंटे तक संगठन का रिकॉर्ड खंगाला है, जो एक बड़ी बात है।

सीबीआई की टीम ने संगठन से सैकड़ों लोगों का रिकॉर्ड बोरों में भरकर जब्त कर लिया है। सूत्रों का कहना है कि बड़े स्तर पर फर्जी पीएफ अकाउंट बनाकर पैसा निकाला गया। इसकी वजह से काफी देर तक सीबीआई को रिकार्ड खंगालने में लग गया।

दरअसल, पीएफ अफसरों और कर्मियों की मिलीभगत से बहुत से लोगों का डाटा ही कंप्यूटर से डिलीट कर दिया गया है। इस वजह से सीबीआई को इस डाटा की जानकारी लेने में वक्त लगा। जबकि ऐसे भी कई लोगों की मैनुअल जानकारी लेने में भी वक्त लगा है।

—-

रिकॉर्ड जब्त कर शुरू की गई स्क्रूटनी,

जब्त किए गए रिकॉर्ड की स्क्रूटनी शुरू कर दी गई है। संभव है कि इस मामले में सीबीआई जल्द ही केस दर्ज करेगी और आगे की छानबीन करेगी। इस मामले में सीबीआई ईपीएफओ के अफसरों के ठिकानों पर भी छापेमारी कर सकती है। बता दें कि सोमवार को सीबीआई की 15 सदस्यीय टीम ने रेलवे स्टेशन जम्मू स्थित ईपीएफओ कार्यालय में छापा मारा था। सीबीआई के पास शिकायत आई थी कि ऐसे कई मजदूर हैं, जिनके खातों को डिलीट करके उनके नाम के फर्जी अकाउंट बनाकर पैसा निकाल लिया गया। इसके बाद सीबीआई की टीम इंजीनियर विंग के साथ कार्यालय पहुंची और छापा मारकर रिकार्ड खंगाला। शुरूआती जांच में यही सामने आया है कि बड़े स्तर पर घोटाला हुआ है। जांच के बाद सीबीआई की ओर से इसकी जानकारी दी जाएगी कि कितने करोड़ का घोटाला हुआ है।