Archery World Cup Final: दीपिका कुमारी-अतनु दास नहीं लगा पाए कांसे पर तीर, खाली रही भारत की झोली | Deepika kumari and atnu das failed to win bronze medal match at archery world cup

अतनु दास और दीपिका कुमारी विश्व कप में पदक नहीं जीत सके.

भारतीय तीरंदाजों से टोक्यो ओलिंपिक-2020 में भी काफी उम्मीदें थी लेकिन जापान की राजधानी में खेले गए खेलों के महाकुंभ में तीरंदाजों ने देश को निराश किया था.

TV9 Hindi

टोक्यो ओलिंपिक-2020 (Tokyo Olympic-2020) में भारतीय तीरंदाजों (Indian Archers) से काफी उम्मीदें थीं लेकिन सभी ने निराश किया और एक भी पदक नहीं जीता. भारत को सबसे ज्यादा उम्मीदें अतनु दास (Atnu Das) और दीपिका कुमारी (Deepika Kumari) से थी लेकिन ये दोनों खाली हाथ लौटे थे. अब ये दोनों इस समय अमेरिका के यांकटन में खेले जा रहे विश्व कप में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं. अतनु दास और दीपिका कुमारी कांस्य पदक के मुकाबले हार गए जिससे भारत को विश्व कप फाइनल से खाली हाथ लौटना पड़ेगा. भारतीय रिकर्व कोच की गैर मौजूदगी में इस जोड़ी को सर्द मौसम में खेले गए मुकाबले में काफी दिक्कतें आई .

दास को मौजूदा ओलिंपिक चैम्पियन तुर्की के मेटे गाजोज ने एकतरफा मुकाबले में 6- 0 (27-29, 26- 27, 28- 30) से हराया . वहीं दुनिया की दूसरे नंबर की तीरंदाज और दास की पत्नी दीपिका को ओलिंपिक टीम कांस्य पदक विजेता मिशेले क्रोप्पेन ने शूटऑफ में मात दी. आठवीं बार फाइनल खेल रही दीपिका 5-6 ( 6 – 9) से हारीं .टोक्यो ओलिंपिक में क्वार्टर फाइनल से बाहर होने के बाद वह पहला टूर्नामेंट खेल रही थी. तीन बार की ओलिंपियन दीपिका जर्मन प्रतिद्वंद्वी के सामने परफेक्ट 30 स्कोर नहीं कर सकी. मिशेले ने पहले दो सेट में पूरे 30-30 अंक बनाए जबकि तीसरे सेट में दोनों ने 28 का स्कोर किया.

शूटऑफ में ले गई मुकाबला

चौथा सेट दीपिका ने जीता. पांचवें सेट में 28 स्कोर करके दीपिका ने मुकाबले को शूटऑफ तक खिंचा लेकिन शूटऑफ में अपेक्षाा के अनुरूप नहीं खेल सकी. दीपिका ने क्वार्टर फाइनल में ओलिंपिक टीम रजत पदक विजेता रूस की स्वेतलाना गोंबोएवा को 6- 4 से हराया था. सेमीफाइनल में वह टोक्यो ओलिंपिक दोहरी रजत पदक विजेता रूस की एलेना ओसिपोवा से हार गई थीं. वहीं दास ने जर्मनी के मैक्सीमिलन वेकम्यूलर को हराकर शुरुआत की लेकिन अमेरिका के ब्राडी एलिसन से हार गए.

ओलिंपिक में किया था निराश

टोक्यो ओलिंपिक से पहले भारतीय तीरंदाजों का प्रदर्शन शानदार रहा था. पेरिस में खेले गए विश्व कप में दीपिका कुमारी ने तीन स्पर्धाओं में स्वर्ण पदक जीते थे लेकिन जापान की राजधानी में वह अपने इस प्रदर्शन को जारी नहीं रख सकी थीं और कोरिया की खिलाड़ी से क्वार्टर फाइनल में हार कर पदक की रेस से बाहर हो गई थीं. वहीं दास भी उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर पाए थे. दास राउंड ऑफ 16 में हार कर बाहर हो गए थे. पुरुष टीम स्पर्धा में भी क्वार्टर फाइनल से आगे नहीं जा सके थे. मिश्रित टीम स्पर्धा में भी दीपिका और प्रवीण जाधव की जोड़ी क्वार्टर फाइनल से आगे नहीं जा सकी थी.

ये भी पढ़ें-

IPL 2021 : हार्दिक पंड्या क्यों नहीं कर रहे हैं गेंदबाजी, मुंबई इंडियंस के कोच ने बताया कारण, जानिए वजह