Ahmedabad, Crime Branch, 2 Arrested, Pistol, Kartoos – आठ पिस्तौल, 62 कारतूस जब्त, दो आरोपी गिरफ्तार

Ahmedabad, crime branch, 2 arrested, pistol, kartoos सूरत की दरगाह के ट्रस्टियों से विवाद पर रखता था हथियार, राजस्थान के कोटा से डेढ़ साल पहले खरीदे थे, दरगाह में छिपाए

अहमदाबाद. शहर क्राइम ब्रांच ने 8 पिस्तौल और 62 कारतूस जब्त करते हुए दो आरोपियों को जशोदानगर चार रास्ते के पास एक कार से पकड़ा है।
पकड़े गए आरोपियों में बहेरामपुरा निवासी मो.हुसैन उर्फ टेम्पो शेख (50) और सूरत कोसाड आवास निवासी सरफराज उर्फ शफी पटेल (39) शामिल हैं।
सूचना के आधार पर क्राइम ब्रांच की टीम ने इन दोनों की कार को रोक कर जांच की तो उसमें से तीन पिस्तौल और 22 कारतूस बरामद हुए। एक मैगजीन भी मिली। जिस पर कार को भी जब्त कर लिया।
पूछताछ में पता चला कि आरोपी ने धोलका के गंज सोहदापीर बावा की दरगाह में भी दो पिस्तौल और 20 कारतूस, दो मैगजीन छिपाई हैं वहां से इन्हें भी बरामद कर लिया। इसके अलावा सूरत में सरफराज ने गली मंडी के पास स्थित असरफपीर बावा की दरगाह में छिपाकर रखी तीन पिस्तौल, 20 कारतूस और एक मैगजीन को भी बरामद किया गया।
प्राथमिक जांच व पूछताछ में सामने आया कि आरोपी मो.हुसैन टैम्पो अहमदाबाद की लतीफ गिरोह का सदस्य रह चुका है। 1986 से आज तक उस पर हत्या, हत्या की कोशिश, लूट, फिरौती, रंगदारी मांगने के कई मामले दर्ज हैं। कई बार पकड़ा जा चुका है। कई लोगों से दुश्मनी है जिससे वह अपनी सुरक्षा के लिए साथ में हथियार रखता था। सूरत के असरफपीर बावा की दरगाह में उसके धर्मगुरू का एक साल पहले निधन हो गया। जिससे उसके ट्रस्टियों से उसका विवाद हुआ था। ट्रस्टी केस जीत गए। टैम्पो को डर था कि दरगाह की जमीन बेच देंगे यदि ऐसा होता है तो उसे खरीदने वाले बिल्डर को डराने के लिए वह राजस्थान के कोटा से वसीम उर्फ कालू कुरैशी से यह हथियार लेकर आया था।

इंदौर एमडी ड्रग मामले में भी खुला नाम
जांच में सामने आया कि तीन महीने पहले म.प्र. के इंदौर शहर में 70किलोग्राम एमडी ड्रग बरामद हुई थी। 33 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया था। उनकी पूछताछ में मो.हुसैन उर्फ टैम्पो का नाम भी खुला है। आरोपियों ने टैम्पो को भी ड्रग बेची होने की बात कही है। इस मामले में टैम्पो फरार है। एक साल पहले सरफराज भी एमडी ड्रग मामले में सूरत में पकड़ा जा चुका है।