300 विकेट लेने वाला पहला स्पिनर, जिसकी गेंदबाजी से आता रनों का अकाल, भारत के खिलाफ किया बड़ा कमाल | On This Day: Lance Gibbs Birthday, Former West Indies Cricketer, 1st spinner to take 300 test wickets

300 विकेट लेने वाला पहला स्पिनर, जिसकी गेंदबाजी से आता रनों का अकाल, भारत के खिलाफ किया बड़ा कमाल

लांस गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड टेस्ट में हैट्रिक भी ली थी.

अपनी पेस चौकड़ी के लिए पिछले कई सालों से मशहूर रही वेस्टइंडीज की टीम में उनसे पहले एक ऐसा स्पिनर था, जिसकी गेंदों के सामने अच्छे-अच्छे बल्लेबाज भी नाच जाते थे.

TV9 Hindi

  • TV9 Hindi
  • Updated On – 6:40 am, Wed, 29 September 21Edited By: शक्ति शेखावत
    Follow us – google news

वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम (West Indies Cricket Team) की जब भी बात होती है, तो अक्सर कुछ सबसे मशहूर नाम ही जुबान पर सबसे पहले आते हैं. ब्रायन लारा, विवियन रिचर्ड्स, क्रिस गेल, गैरी सोबर्स, गॉर्डन ग्रीनिज जैसे धुरंधर बल्लेबाज हों या फिर माइकल होल्डिंग, एंडी रॉबर्ट्स, जोएल गार्नर और मैल्कम मार्शल जैसे तूफानी तेज गेंदबाज, इन कुछ नामों ने विश्व क्रिकेट पर राज किया है. खास तौर पर गेंदबाजों की जब भी बात होती है, तो 1970 और 80 के दशक की पेस चौकड़ी के खौफ का जिक्र ही सबसे पहले आता है. लेकिन तेज गेंदबाजों की इस फौज से पहले इसी टीम से एक स्पिनर ने विश्व क्रिकेट में चमक बिखेरी थी. ये स्पिनर थे- लांस गिब्स (Lance Gibbs). 1960 के दशक के दिग्गज विंडीज ऑफ स्पिनर का क्रिकेट इतिहास में खास स्थान है.

लांस गिब्स का आज 87वां जन्मदिन है. दाएं हाथ के इस दिग्गज ऑफ स्पिनर का जन्म 29 सितंबर 1934 को ब्रिटिश गयाना (अब गयाना) के क्वीन्सटाउन में हुआ था. गिब्स ने ब्रिटिश गयाना के लिए ही 1953-54 में अपना फर्स्ट क्लास डेब्यू किया था. गिब्स ने बतौर लेग स्पिनर अपना करियर शुरू किया था, लेकिन उन्हें इसमें गेंदों को नियंत्रित करने में परेशानी का सामना करना पड़ता था, जिसके बाद उन्होंने पूर्व इंग्लिश क्रिकेटर आर्थर मैक्किंटायर की सलाह पर ऑफ स्पिन में हाथ आजमाया और यहां से सफलता का सिलसिला शुरू हो गया.

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हैट्रिक, भारत के खिलाफ कमाल

1959 में गिब्स ने पाकिस्तान के खिलाफ पोर्ट ऑफ स्पेन टेस्ट में अपना डेब्यू किया, जिसमें उन्हें 4 विकेट मिले. धीरे-धीरे उन्हें टीम में जगह मिलने लगी. हालांकि, टीम का नियमित सदस्य बनने में उन्हें वक्त लगा और इसमें अहम भूमिका निभाई 1961 के ऑस्ट्रेलिया दौरे में, जहां उन्हें सिर्फ 3 टेस्ट मैचों में मौका मिला. इसमें भी उन्होंने 18 विकेट झटके, जिसमें एडिलेड टेस्ट सबसे खास था. इस टेस्ट की पहली पारी में गिब्स ने हैट्रिक समेत 5 विकेट झटके.

गिब्स ने इसके बाद ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के खिलाफ जमकर विकेट झटके, जबकि भारतीय बल्लेबाज भी उनके सामने परेशान दिखे. गिब्स के करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन भी भारत के खिलाफ ही आया. 1962 में ब्रिजटाउन टेस्ट की दूसरी पारी में गिब्स ने भारत के खिलाफ 53.3 ओवरों में सिर्फ 38 रन देते हुए 8 विकेट झटके. खास बात ये रही, कि ये 8 विकेट 15 ओवरों के स्पैल में आए, जिसमें गिब्स ने सिर्फ 6 रन खर्चे.

300 विकेट का रिकॉर्ड

गिब्स टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में 300 विकेट लेने वाले सिर्फ दूसरे गेंदबाज थे. उनसे पहले इंग्लैंड के दिग्गज पेसर फ्रेड ट्रूमैन ने ये कमाल किया था. लेकिन गिब्स इस आंकड़े को छूने वाले विश्व के पहले स्पिनर थे. उन्होंने 1975-76 में अपनी आखिरी अंतरराष्ट्रीय सीरीज में उन्होंने ये उपलब्धि हासिल की थी. गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया दौरे पर पर्थ टेस्ट में गैरी गिल्मर का विकेट लेकर ये रिकॉर्ड बनाया था.

कंजूस गेंदबाजी की मिसाल

गिब्स के करियर की एक सबसे बड़ी खासियत थी उनकी कंजूसी भरी गेंदबाजी. 79 टेस्ट के करियर में उनका इकॉनमी रेट सिर्फ 1.98 का रहा. यानी बल्लेबाजों को उनके सामने रन बनाने के लिए हमेशा संघर्ष करना पड़ता था. रनों का अकाल पड़ जाता था. गिब्स ने इसी खासियत को अपना हथियार बनाते हुए 79 टेस्ट मैचों में 309 विकेट लिए, जिसमें 18 बार एक पारी में 5 विकेट लेने का कमाल किया. वहीं अपने पूरे फर्स्ट क्लास करियर में उन्होंने 1024 विकेट अपने नाम किए.

ये भी पढ़ेंः भारत को हराने के लिए ऑस्ट्रेलिया ने जान झोंकी, 160 KM/H स्पीड और टखनातोड़ यॉर्कर फेंकने वाला टीम से जुड़ा