सेम डेट, सेम जगह… साउथ अफ्रीका ने दो देशों को क्रिकेट में चटाई धूल, टीम इंडिया ने झेला तगड़ा असर | South Africa chase 2 milestone in Nairobi on 3 October, Team India also defeated in LG Cup Final on this day

साउथ अफ्रीका ने 1996 और 1999 में 3 अक्टूबर के दिन दर्ज की थी दो बड़ी कामयाबी

साउथ अफ्रीका ने दोनों कमाल सेम डेट, सेम जगह किए थे, जिसका शिकार बनने से टीम इंडिया भी नहीं बच सकी थी. प्रोटियाज टीम के इस पूरे प्रकरण में अगर कुछ बदला था, तो वो था घटना का साल.

TV9 Hindi

  • TV9 Hindi
  • Publish Date – 8:00 am, Sun, 3 October 21Edited By: साकेत शर्मा
    Follow us – google news

जमीन केन्या (Kenya) की थी. मैदान नैरोबी (Nairobi) का था. तारीख थी 3 अक्टूबर. और, दो देशों को धूल चटाने वाली टीम थी साउथ अफ्रीका (South Africa). जी हां, सेम डेट, सेम जगह. हैंसी क्रोन्ए की कप्तानी में साउथ अफ्रीका ने दोनों कमाल किए थे, जिसका शिकार बनने से टीम इंडिया (Team India) भी नहीं बच सकी थी. प्रोटियाज टीम के इस पूरे प्रकरण में अगर कुछ बदला था, तो वो था घटना का साल. साउथ अफ्रीकी टीम ने एक ही दिन पर, एक ही मैदान पर जो 2 बड़े धमाल मचाए थे. उन दोनों के बीच पूरे 3 साल का फासला था. पहला धमाल साल 1996 में मचाया, जब उसने उस वक्त की वनडे में अपनी सबसे बड़ी जीत दर्ज की. इसके बाद दूसरा कमाल उसने साल 1999 में टीम इंडिया को हराते हुए LG कप (LG Cup) का फाइनल जीतकर किया.

अब जरा एक एक कर क्रिकेट इतिहास में 3 अक्टूबर को नैरोबी में खेले साउथ अफ्रीका के दो बड़े मुकाबलों के बारे में विस्तार से समझिए. तारीख – 3 अक्टूबर 1996, मुकाबला- साउथ अफ्रीका बनाम केन्या और जगह- नैरोबी. साउथ अफ्रीका ने इस वनजे मैच में उस वक्त की अपनी सबसे बड़ी जीत दर्ज की. पहले बल्लेबाजी करते हुए साउथ अफ्रीका ने 50 ओवर में 8 विकेट पर 305 रन बनाए. प्रोटियाज टीम को इस स्कोर तक ले जाने में ओपनर गैरी कर्स्टन के 66 रन, कप्तान हैंसी क्रोन्ए के 63 रन और मिडिल ऑर्डर बल्लेबाज जोंटी रोड्स के 54 रन की बड़ी भूमिका रही.

3 अक्टूबर, नैरोबी और साउथ अफ्रीका की सबसे बड़ी जीत

केन्या की टीम के सामने 306 रन का लक्ष्य था. लेकिन साउथ अफ्रीका के तेज गेंदबाज एलन डोनाल्ड के बरपते कहर के आगे केन्याई टीम अपने ही घरेलू मैदान पर 25.1 ओवरों में सिर्फ 103 रन पर ऑलआउट हो गई. डोनाल्ड ने इस मैच में कातिलाना गेंदबाजी करते हुए अपने वनडे करियर का बेस्ट प्रदर्शन किया और 23 रन देकर 6 विकेट उखाड़े. हैंसी क्रोन्ए की अगुवाई में साउथ अफ्रीकी टीम ने ये मुकाबला 202 रन से जीता, जो कि उस वक्त की उसकी सबसे बड़ी जीत थी, जिसमें मैन ऑफ द मैच का तमगा एलन डोनाल्ड को मिला था.

3 अक्टूबर, नैरोबी और साउथ अफ्रीका ने जीता LG कप

साउथ अफ्रीका ने दूसरा बड़ा कमाल 3 अक्टूबर को नैरोबी के मैदान पर ही साल 1999 में किया. इस बार उसका निशाना बनी टीम इंडिया. बिना सचिन तेंदुलकर के खेल रही भारतीय टीम को साउथ अफ्रीका ने बड़े आराम से हार स्वीकारने पर मजबूर कर दिया. ये मुकाबला था LG कप का फाइनल, जिसमें साउथ अफ्रीका ने 25 रन से जीत दर्ज की थी. फाइनल मुकाबले में साउथ अफ्रीका ने पहले बल्लेबाजी की और सलामी बल्लेबाज हर्शल गिब्स के शानदार अर्धशतक की बदौलत 50 ओवर में 9 विकेट पर 235 रन बनाए. ओपन करने उतरे गिब्स ने 124 गेंदों पर 84 रन बनाए , जिसमें 6 चौके और 3 छक्के शामिल रहे थे.

हालांकि, 236 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया 47.3 ओवर में 209 बनाकर ऑलआउट हो गई थी. उस फाइनल मुकाबले में भारत के सबसे सफल बल्लेबाज एमएसके प्रसाद रहे थे, जिन्होंने 63 रन बनाए थे. इसके अलावा द्रविड़ और अजय जडेजा ने 30-30 रन की पारी खेली थी. पर ये सब जीत की स्क्रिप्ट लिखने में नाकाफी रहे. LG कप के फाइनल में भारत पर साउथ अफ्रीका की जीत में मैन ऑफ द मैच 84 रन की पारी खेलने वाले गिब्स को चुना गया.

यह भी पढ़ें: IPL 2021: दिल्ली कैपिटल्स ने धमाकेदार अंदाज में मुंबई इंडियंस को पटका, रोहित एंड कंपनी के लिए मुश्किल हुई प्लेऑफ की राह